उत्पाद

 होम > ड्रीप सिंचाई प्रणाली > ड्रीप सिंचाई प्रणाली

ड्रीप सिंचाई प्रणाली


ड्रीप सिंचाई आज की आवश्यकता है क्योंकि पानी मानव के लिए प्रकृति का अनमोल उपहार, न तो हमेशा के लिये असीमित है और न ही मुफ्त। दुनियाँ भर में जल स्रोत तेजी से कम होते जा रहे है। इस समस्या का एक और सिर्फ एकही समाधान है   ‘जैन ड्रीप‘ ऐसा नाम जिस पर आप विश्वास कर सकते है, और जो ड्रीप सिंचाई प्रणाली के समस्त अवयवों के स्वयं निर्माता हैं।.

मिट्टी पानी, फसल, जमीन का उतार-चढ़ाव और जलवायु के आपस में सम्बन्धों के गहन अध्ययन के उपरांत, ‘जैन’ उपयुक्त और आर्थिक रूप से व्यवहार्य प्रणाली का, जो कि गणना के अनुसार सीधे पौधों के जड़ क्षेत्र में निर्धारित समय के अन्तराल पर पानी दे सके ऐसा प्रणाली का नक्शा बनाते है। यह सुनिश्चित करते है कि पौधों को पानी की कमी या अधिकता से, तनाव या थकान की स्थिति का सामना नहीं करना पडे। किसान के खेत पर संयन्त्र की स्थापना, व कार्यशील कर कृषक को प्रशिक्षण व बिक्री पश्चात सेवाएँ भी प्रदान की जाती है।

परिणाम – एक सम्पूर्ण, आवश्यकता के अनुरूप, कार्यक्षम और अधिक समय तक कार्यशील रहने वाली प्रणाली जिस से पानी की बचत शीघ्र परिपक्वता और भरपूर फसल, सीजन दर सीजन और साल दर साल की सुनिश्चित होती है। इतना ही नहीं मजदूरी और खाद के खर्च में भी बचत होती है।

जैन ड्रीप की स्थापना से आप भी जैन ड्रीप सिंचाई प्रणाली के खुशहाल किसानों के सुखी समृद्ध परिवार से जुडिये।

ड्रीप इरिगेशन सिस्टम फसलो को पानी, मेनलाईन्स, सब-मेन लाईन्स और लेटरल लाईन्स और उसकी लम्बाई में लगाये गये उत्सर्जक के नेटवर्क के माध्यम से दिया जाता है। प्रत्येक ड्रीपर/ एमिटर्स/ छिद्र के व्दारा मापित, निश्चित रूप से नियन्त्रित और एक समान वितरण से पानी पोषक पदार्थ, और फसल और वृद्धि के लिये लगने वाले अन्य पदार्थ सीधे पौधों के जड़ क्षेत्र में दिये जाते है।

पानी और पोषक तत्व मिट्टी में एमिटर्स से प्रवेश करते है और गुरुत्वाकर्षण और केशिका के संयुक्त दाब से जड़ क्षेत्र में पहुंचते है। इस तरीके से पौधों को पानी और पोषक तत्व की तुरन्त पूर्ति होती है और फसल को तनाव की स्थिति का सामना नहीं करना पडता और उससे फसल की गुणवत्ता भी बढ जाती है।



प्रधान कार्यालय
जैन प्लास्टिक पार्क, राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 6
जलगांव (425 001)
महाराष्ट्र, भारत.
दूरभाष: +91 257 225 8011
फैक्स: +91 257 225 8111

 

छोटे विचार, बिग क्रांति .